*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, February 20, 2014

अधर से उदर तक

         अधर से उदर तक

मिलना है जिसको ,वो ही तुमको मिलता ,
                           भले लाख झांको,इधर से उधर तक
बसा कोई दिल में , चुराता है नींदें ,
                            जाने जिगर वो  तुम्हारे  जिगर तक
मचलती है चाहें,जब मिलती निगांहे ,
                             चलता है जादू ,नज़र का नज़र तक  
वो बाहों का बंधन ,वो झप्पी वो चुम्बन,
                              मज़ा प्यार का है,अधर से अधर तक
ये है बात निराली  ,हो गर पेट खाली ,
                               तो भूखे  से होता नहीं है भजन तक
न तन में है हिम्मत,भले कितनी चाहत,
                                नहीं होता तन से फिर तन का मिलन तक
तब होता है चुम्बन और बाहों का बंधन ,
                                  भरा हो उदर और   मिलते  अधर तब
मचल जाता मन है,मिलन ही मिलन है  ,
                                     अधर से उदर तक ,तुम चाहो जिधर तक

मदन मोहन बाहेती'घोटू'      

No comments: