*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, February 20, 2014

जवानी का मोड़

         जवानी का मोड़

जब होठों के ऊपर और नाक के नीचे,
                          रूंआली उभरने लगे
जब किसी हसीना को कनखियों से देखने
                             को दिल  करने लगे
जब मन अस्थिर और अधीर  हो ,
                             इधर उधर भटकने लगे 
जब किसी कन्या का स्पर्श,मात्र से ,
                              तन में सिहरन भरने लगे
जब न जाने क्या क्या सोच कर ,
                                तुम्हारा मन मुस्कराता  है
समझलो,आप उम्र के उस मोड़ पर है ,
                                जो जवानी की ओर  जाता है

मदन मोहन बाहेती'घोटू'
                                

No comments: