*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Monday, February 17, 2014

ऊँट कौन करवट बैठेगा ?

           ऊँट कौन करवट बैठेगा ?

 

सब नेताओं के सपनो में ,पी एम कुर्सी घूम रही है

ऊँट कौन करवट बैठेगा ,कोई को मालूम नहीं   है

मात सोनिया सपने देखें,ताजपोशी राहुल की होगी

ममता का मन भी मचले है,है पंवार ,पॉवर के लोभी

जयललिता भी लालायित है और नितीश भी नज़र गढ़ाये

साईकिल पर बैठ मुलायम ,लालकिले के सपन सजाये

फूट रहे मोदी मन मोदक ,निकल मांद  से करते गर्जन

कभी भाग्य से छींका टूटे ,अडवाणी सोचे मन ही मन

माया दलित कार्ड दिखला कर ,चाह  रही आये पॉवर में

लोग नाम ले रहे आप का ,पर अरविन्द ढके मफलर में

हम भी,हम भी,हम भी ,हम भी,कह कर के सब उछल रहे है 

एक बार फिर सत्ता पा लें ,देवगोड़ा जी ,मचल रहे है

एक मोरचा  बी जे पी का,एक मोरचा  कांग्रेस   का

खुला तीसरा, अगर मोरचा,तो क्या होगा ,भला देश का

अभी इलेक्शन में टाइम पर,मन में सत्ता झूम रही है

ऊँट कौन करवट बैठेगा ,कोई को मालूम नहीं   है

 

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: