*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Sunday, February 16, 2014

इश्क़ का इजहार करलें

         इश्क़ का इजहार करलें

झगड़ते तो रोज ही रहते है हम तुम,
                   आज वेलेंटाइन दिन है,प्यार करलें
नयी पीढ़ी की तरह गुलाब देकर,
                   हम भी अपने इश्क़ का इजहार करले
 एक दूजे की कमी हरदम निकाली ,
                     छोटी छोटी बातों पर लड़ते रहे  हम
एक दूजे की कभी तारीफ़ ना की ,
                       एक दूजे से हमेशा  रही   अनबन
     आज आओ एक दूजे को सराहे
     एक दूजे संग चलें हम मिला बाहें 
 प्यार से हम एक दूजे को निहारें,
                        संग  मिल कर सुहाना संसार करले
नयी पीढ़ी की तरह गुलाब देकर ,
                          हम भी अपने इश्क़ का इजहार कर लें  
जिंदगी के झंझटों में व्यस्त रह कर ,
                              दुनियादारी में फंसे दिन रात रहते
चितायें  और परेशानी में उलझ कर ,
                               मिल न पाये,भले ही हम साथ रहते
       आओ हम तुम आज सारे गम भुलादे
        मिलें खुल कर  ,प्यार की  गंगा बहा दे
कुछ बहक कर,कुछ चहक कर,कुछ महक कर ,
                           सूखते इस चमन को गुलजार  करलें
नयी पीढ़ी की तरह गुलाब देकर,
                              हम भी अपने इश्क़ का इजहार करलें

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: