*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Saturday, February 15, 2014

दिल्ली का दंगल

       दिल्ली का दंगल

कांग्रेस ,बीजेपी ,इक दूजे के दुश्मन
वेलेंटाइन डे पर दोनों मित्र गए बन
इक दूजे का साथ दिया और हाथ मिलाया
और 'आप 'की गवर्नमेंट का किया सफाया
करे तीसरा राज,सोच ये बोझ हो गयी
एक दूजे की मिलीभगत ,एक्सपोज हो गयी
जिसने जब सत्ता पायी  ,वो खुल कर खेले
गिरेबान   दोनों के   ही है      अंदर  मैले
अब चुनाव का ऊँट ,कौन करवट बैठेगा
दोनों की ही लुटिया कहीं डूबा ना देगा
हुयी सियासी कुश्ती ,दिल्ली के दंगल में
फंसी हुई है जनता ,बेचारी  दलदल में

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: