*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Saturday, February 1, 2014

नेताजी का मोटापा

      नेताजी का मोटापा

एक नेताजी ,नामी गिरामी थे
विपुल सम्पदा के स्वामी थे
खाने पीने के शौक़ीन थे
तबियत के रंगीन थे
उन्हें एक चिंता सता रही थी
उनकी तोंद बड़ती  जा रही थी
उन्होंने अपने डाक्टर को दिखलाया
डाक्टर ने जाँच करके बतलाया
आप खूब खाते है ,तले हुए पकवान ,
मिठाइया और घी
इसलिए बढ़ रही है आपकी चर्बी
ये सारा 'फेट 'आपके शरीर में,
 जमा होता जा रहा है
और आपका मोटापा बढ़ा रहा है
नेताजी बोले'हम भी समझते है ई बात
तबही तो आपसे कर रहे है मुलाकात
आप तो जानते ही है कि हम ,
और भी बहुत कुछ खाते है
पर वो सब  घर में थोड़े ही जाता है,
उसके सारे 'फेट'को जमा कराने के लिए,
विदेशी बेंकों में हमारे खाते है
अब ई खाना पीना तो हमसे छूटने से रहा,
क्या आपकी डाक्टरी में नहीं है ऐसा कोई उपाय
कि हम यहाँ खाएं ,और चर्बी ,
 कहीं और जगह जमा हो जाय
हमारे शरीर पर नज़र ना आय
ई टेक्निक ,यहाँ नहीं हो ,
तो विदेश से इम्पोर्ट करवा लीजिये
पर हमारे लिए कुछ कीजिये

मदन मोहन बाहेती'घोटू'
 

No comments: