*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, December 12, 2013

Life is Just a Life: जग रही है या सो रही है जिंदगी Jag rahi hai ya So r...

Life is Just a Life: जग रही है या सो रही है जिंदगी Jag rahi hai ya So r...: शब्द का विन्यास धरती का रुदन इतिहास, केवल चल रही है या लड रही है जिन्दगी? स्नेह आंचल का आंख काजल का परिहास, केवल हंस रही है या रो ...

No comments: