*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Monday, December 9, 2013

hansee

   ये हँसी ,कितनी हसीन है 

जब होता है खुशी  मन ये ,हंसी आती है 
बड़ी आनंद दायक होती ,गुदगुदाती है 
कोई चुपके से  दबी  दबी  हँसी हँसता है 
कोई जब झेंपता ,खिसियानी हँसी हँसता है 
कोई होते है लोटपोट जब वो हँसते है 
कोई के पेट में हंसने से भी बल पड़ते है 
कोई की मुस्कराहट होती है बड़ी धाँसू 
कोई की आँख में हंसने से आ जाते आंसू 
कोई जब हँसता,उसकी हँसी ख़ास होती है 
कभी ठहाका,कभी अट्ठहास होती है 
हसीनो की भी हँसी ,कितनी है  हसीन  होती 
कभी गालों पे पड़ते है डिंपल और  टपकते मोती 
गिराती बिजलियाँ है,उनकी हंसी है कातिल 
हंसी हंसी में लिया उनने चुरा  मेरा दिल 
हम तो बस उनकी हंसी के लिए तरसते है 
क्योंकि वो हँसते है तो फूल बस बरसते है 
कोई जब बड़ी बड़ी डींग मारा करता  है 
उसकी बातों पे ज़माना बहुत ही हँसता है 
होती है जब किसी पे व्यंग या कि तानाकशी 
उड़ाई जाती सबके सामने है उसकी हंसी 
ये हंसी मन में कड़वा जहर भरवा देती है 
और वो महाभारत तक भी करवा देती है 
हम किसी बात पर जब ध्यान नहीं है देते  
 हंसी हंसी  में ही सब बातों को उड़ा देते 
ये भी आदत बड़ी नुकसानदायक होती है 
कितनी ही बातें क्योंकि लाभदायक होती है 
हंसी उड़ाये कोई ,हंसी में उडा देना 
बात ना बढे,समझदारी इसी में है ना 
इससे जीवन ये हंसीखुशी में कट जाता है 
 वर्ना ये ज़माना बड़ी हंसी उड़ाता है 
हंसी पे कोई,किसी का न पहरा होता है 
कोई हँसता है तो हंस हंस के दोहरा होता है 
अलग अंदाज हंसी का,हुआ करता  सब में 
कोई हंसने के जाता है लाफिंग क्लब में 
हंसी सेहत के लिए होती लाभदायक है 
हँसी  होती है हसीं ,इसमें ही  बसता रब है 
बड़े जंजाल है जीवन में,नहीं  उनमे फंसो 
चैन से मै भी हंसू,वो भी हँसे,तुम भी हंसो 

मदन मोहन बाहेती'घोटू' 

2 comments:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज मंगलवार (10-12-2013) को मंगलवारीय चर्चा --1456 कमल से नहीं झाड़ू से पिटे हैं हम में "मयंक का कोना" पर भी है!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज मंगलवार (10-12-2013) को मंगलवारीय चर्चा --1456 कमल से नहीं झाड़ू से पिटे हैं हम में "मयंक का कोना" पर भी है!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'