*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Friday, November 29, 2013

मन उच्श्रृंखल

          मन उच्श्रृंखल

इधर उधर भटका करता है ,हर क्षण,हरपल
मन उच्श्रृंखल 
कभी चाँद पर पंहुच ,सोमरस पिया करता
कभी चांदनी साथ किलोलें ,किया करता
करता है अभिसार कभी संध्या के संग में
हो जाता है  लाल , कभी  उषा  के  रंग में
कभी तारिकाओं के संग है मौज मनाता
कभी बांहों में,निशा की,बंध  कर खो जाता
सो जाता है कभी ओढ़ ,रजनी  का आँचल
मन उच्श्रृंखल
कभी किरण के साथ ,टहलने निकला करता
कभी भोर के साथ ,छेड़खानी  है करता
कभी पवन के साथ,मस्त होकर है  बहता
कभी कली के आस पास मंडराता रहता
कभी पुष्प रसपान किया करता ,बन मधुकर
कलरव करता ,कभी पंछियों के संग ,उड़ कर
नहीं किसी के बस में ये दीवाना ,पागल
मन उच्श्रृंखल  
 
मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: