*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Friday, November 15, 2013

बाल दिवस

कोट पर लगा
 लाल गुलाब
जब भी देखा
चाचा नेहरू को
याद किया |
उसमें छिपी
कोमलता
बच्चों को
 करीब लाती थी
चाचा की याद
मन के  लिए
बाल दिवस
हो जाती थी |
आशा

3 comments:

रविकर said...

सुन्दर प्रस्तुति-
आभार आदरणीया

Vaanbhatt said...

खूबसूरत अभिव्यक्ति...

sadhana vaid said...

सुंदर रचना ! चाचा नेहरू बच्चों को सच में बहुत प्यार करते थे !