*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, November 12, 2013

इलेक्शन आ गया

       इलेक्शन आ गया

लगी बिछने खेल की  है  बिसातें,
                       ऐसा  लगता है  इलेक्शन आ गया
अपने अपने मोहरे सब  सजाते ,
                        ऐसा लगता है इलेक्शन  आ गया
सत्ताधारी गिनाते उपलब्धियां ,
                         और विरोधी दलों को है कोसते
अपनी नाकामयाबियों का ठीकरा ,
                           सब विपक्षी दलों पर है फोड़ते
घोषणा पत्रों में देखो सब के सब,
                              मुंगेरी सपने तुम्हे  दिखलायेंगे
काम छांछट साल में कुछ ना किया ,
                              पांच सालों में वो कर दिखलायेंगे
एक दूजे को है देते गालियां ,
                              खींचते एक दूसरे की  टांग है
वोट की मछली पकड़ने के लिए ,
                               धरते बगुले भगत जी का स्वांग है
कहीं पर है खेल जातिवाद का ,
                               धर्म पर दंगे  कहीं  करवा  रहे
राजनिती का खुला हम्माम है ,
                                सभी नंगे नज़र हमको आ रहे
बांटते  है खुल्ले हाथों हर तरफ ,
                                 मिठाई  आश्वासनों की लीजिये
जोड़ कर के हाथ सब विनती करें,
                                 वोट अबकी बार हमको दीजिये
बाद में रंग अपना असली दिखाते,
                                  रंग  बदलने  का है  मौसम आ गया 
लगी बिछने खेल की है बिसाते ,
                                   ऐसा लगता है इलेक्शन  आ गया

मदन मोहन बाहेती'घोटू'  

No comments: