*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Friday, November 8, 2013

लक्ष्मी जी और वाहन

          लक्ष्मी जी और वाहन
                         १
कारों  के मॉडल नये , आते है हर साल
लक्ष्मी पति है बदलते ,निज वाहन हर बार
निज वाहन हर बार ,देख कर के ये फेशन
लक्ष्मीजी ने भी सोचा बदलूं निज वाहन
बोली'बहुत दिनों तक ,तुमने ली सेवा कर
अब बूढ़े हो,तुम उलूक ,हो जाओ रिटायर '
                          २
उल्लू ने विनती करी ,निज हाथों को जोड़
माँ ,इतनी सेवा करी ,कहाँ जाउंगा छोड़
कहाँ जाउंगा छोड़ ,चलाऊंगा घर कैसे
ना पगार ही मिले ,पेंशन के ना पैसे
लक्ष्मी बोली सेवा व्यर्थ न जाने दूंगी
केबिनेट में ,मंत्री का पद दिलवा दूंगी

घोटू

No comments: