*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Monday, October 14, 2013

एक कथा-एक व्यथा

                घोटू के छंद
           एक कथा-एक व्यथा
                         १
एक नट रोज रोज ,खेल जब दिखाता तो,
                          बेटी थी जवान जिसे रस्सी पे चलाता था 
अगर गिरी तो तेरी ,गधे से कर दूंगा शादी ,
                           बार बार बिटिया को ,डर ये दिखाता  था 
कभी तो गिरेगी बेटी,शादी होगी उसके संग, 
                            नट का गधा बेचारा ,आस ये लगाता  था
बस इसी लालच में ही,थोड़ा सा ही भूसा खाकर ,
                             दिन भर ,ढेर सारा ,बोझा वो उठाता  था
                          २
नट के ही खेल जैसा ,आज का है राज काज ,  
                              सूखा भूसा खाते ,कब पेट भर के खायेंगे
सहे मंहगाई बोझ,नट के गधे से रोज,
                               आस हम लगा के बैठे ,अच्छे दिन आयेंगे
नट की बेटी की तरह ,गिरेगी ये 'गवर्नमेंट '
                                 खुशियों से होगी शादी ,हम मुस्कायेंगे
बड़े ही गधे थे हम , खाते अब है ये  कसम ,
                                  नट के झांसे में नहीं ,और अब  आयेंगे

मदन मोहन बाहेती'घोटू'
 

No comments: