*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Monday, October 28, 2013

उड़ान मेरी नजर से 


उड़ान वो चाहत है जो ,
मंजिल तक ले जाती है ।

उडान वो उमंग है जो ,
नईराह  दिखलाती है ।

उडान  वो हौशला है जो ,
लड़ना सिखलाती   है ।

उड़ान वो कर्म  है जो ,
क्षितिज पार  ले जाती है ।

उड़ान वो प्रयाश है जो ,
चलना सिखलाती है ।

उड़ान वो धर्म है जो ,
इंसानियत  सिखलाती है ।

उड़ान   हमारा  वो प्रयास  है जो ,
हारे  हुए को जीतना,
जीतने वालो को नए आयामों तक पहुचती है |  

रचनाकार..    .प्रदीप तिवारी 

pradeeptiwari.mca@gmail.com

2 comments:

कालीपद प्रसाद said...

बहुत सुन्दर परिभाषाएं हैं उड़ान के |
नई पोस्ट सपना और मैं (नायिका )

तुषार राज रस्तोगी said...

बहुत खूब