*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, October 22, 2013

खुद को कर, रोशन इतना ,
की सारा जग, चमक जाये ।
सूरज जो आये , मुडेर  पर तेरी ,
वो भी देख , तुझे दहक  जाये ।
तू असीम है, असीमित है ,
बस खुद पर ,विस्वाश कर ।
जग तेरा ,यश गान करेगा,
बस निस्वार्थ हो, तू कार्य  कर ।


रचनाकार
प्रदीप तिवारी 
9584533161

2 comments:

कालीपद प्रसाद said...

बस खुद पर ,विश्वास कर ।
जग तेरा ,यश गान करेगा,
बस निस्वार्थ हो, तू कार्य कर ।
बहुत सुन्दर !
नई पोस्ट मैं

pradeep tiwari said...

thank you sir ji