*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, September 17, 2013

कविता कैसे बन जाती है

       कविता कैसे बन जाती है

तुम अक्सर पूछा करते हो ,कविता कैसे बन जाती है
लो ,मै तुमको बतलाता हूँ, कविता  ऐसे बन जाती है
रातों को नींद न जब आती ,जगता रहता,भरता करवट
जब सपन अधूरे रह जाते , होती है मन में अकुलाहट
कुछ अंतर्मन की पीडायें ,कुछ दुनियादारी के झंझट
तब  उभर उभर कर भाव सभी  ,शब्दों में ढलने लगते झट
होती है मुझे प्रसव पीड़ा , ले जनम कविता आती है
लो मै तुमको बतलाता हूँ ,कविता ऐसे  बन जाती है
इस जीवन के दुर्गम पथ पर,मिलते पत्थर ,चुभते कांटे
अनजान राह पर भटक भटक ,मिलते वीराने ,सन्नाटे
कुछ आते पल तन्हाई के ,जो मुश्किल से ,कटते ,काटे
संघर्षों के उस मौसम में ,जब वक़्त मारता है चांटे
वह चपत ,गाल पर उंगुली की ,जब छाप छोड़ कर जाती है
 लो मै तुमको बतलाता हूँ,कविता ऐसे बन जाती है

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: