*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Saturday, September 7, 2013

मूंछें -साजन की

            मूंछें -साजन की

मर्दाने चेहरे पर  लगती तो है प्यारी
साजन ,मुझको नहीं सुहाती मूंछ तुम्हारी
        जब होता है मिलन,शूल से मुझे चुभोती
         सच तो ये है ,मुझको बड़ी गुदगुदी होती
लब मिलने के पहले रहती खडी अगाडी
साजन ,मुझको नहीं सुहाती मूंछ तुम्हारी
           बाल तुम्हारी मूंछों के कुछ लम्बे ,तीखे
           कभी नाक में घुस जाते  तो आती छींके
होती दूर ,प्यार करने की इच्छा सारी
साजन मुझको नहीं सुहाती मूंछ तुम्हारी

मदन मोहन बाहेती;घोटू'     

No comments: