*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, August 28, 2013

Life is Just a Life: कन्हा - रास नहीं अब समर चाहिये Kanha - Raas nahi a...

Life is Just a Life: कन्हा - रास नहीं अब समर चाहिये Kanha - Raas nahi a...: हे कृष्ण तुम्हारी लीलाएं कुछ प्रेमपगी कुछ शोणितमय, कुछ माखनचोरी गौपालन कुछ त्यागमयी कुछ अन्त्योदय। कुछ चोरी सीनाजोरी कर कुछ गो...

1 comment:

Dr Varsha Singh said...

जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं.