*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Friday, August 16, 2013

चुनाव का अधिकार

          चुनाव का अधिकार

बचपन से ,जब से मुझ में ,
थोड़ी समझ और होंश आया है
मैंने अपने आप को ,
चुनाव के चक्कर में ही पाया है
सबसे पहले ,मेरे दाखिले के लिए ,
नर्सरी स्कूल का चुनाव किया गया
 इस दाखिले में ,मेरा कुछ भी दखल नहीं था ,
क्योंकि स्कूल का चुनाव पिताजी ने था किया
पर धीरे धीरे ,जब मै बड़ा होने लगा ,
मेरी चुनने की प्रवृत्ति रंग लाने लगी
खाने पीने में पसंद की चीज चुनना,
अच्छे बुरे दोस्त चुनना ,
पहनने के वस्त्र चुनना ,
इन सभी बातों में मेरे चुनाव को,
तबज्जो दी जाने लगी
और बड़ा होने पर इस बार ,
कौनसे कोलेज में जाऊं ,
कौनसा प्रोफेशन अपनाऊ
किसे अपनी गर्ल फ्रेंड बनाऊ
मेरे हाथ में आ गया था
ये सब चुनाव करने का अधिकार
इम्तिहान में पास होने पर ,
कई जगह अप्लाय किया ,
कई इंटरव्यूह  दिए
और चुनाव प्रक्रिया झेलनी पडी
तब कहीं नसीब हुई ,एक अच्छी नौकरी
फिर चला जीवनसाथी के चुनाव का चक्कर
लड़कियां देखी दर्जन भर
तब कहीं कोई पसंद आई
जिसके साथ मैंने शादी रचाई
जैसे जैसे बसता गया मेरा घर संसार
वैसे वैसे मै खोता गया ,अपना चुनाव का अधिकार
क्योंकि अब मेरी कम,मेरी बीबी की ज्यादा चलती है
अब मेरे लिए हर चीज मेरी बीबी चुनती है
आजकल चुनाव के मामले में ,ये बन्दा बेकार है
क्योकि हर चीज चुनने का पत्नीजी को अधिकार है
अब तो बस ,जब पांच साल में ,आम चुनाव आता है
देश का नेता चुनने में,ये बंदा  हाथ बटाता है
ये चुनाव का चक्कर भी अजीब है  होता
बच्चे को माँ बाप चुनने का हक़ तो नहीं होता
पर जन्म के बाद और शादी के पहले ,
हर चुनाव में उसकी चलती है
पर शादी के बाद ,चुनाव के मामले में,
उसकी दाल नहीं गलती है
क्योंकि उसको रोज रोज की लड़ाई
या घर की शांति  के बीच,
एक चीज का चुनाव करना पड़ता अक्सर  है
और रोज की लड़ाई के बदले ,बीबी की बात मान,
घर की शांति चुनना ही बेहतर है 

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: