*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Friday, August 16, 2013

आशा-निराशा

    आशा-निराशा

भरी बारिश में उनके घर
गए हम आस ये ले कर
मज़ा बारिश का  आयेगा
                    पकोड़े  जा के खायेंगे
मगर जब हम वहां  पहुंचे
वहां थे  चल रहे  रोज़े
नहीं सोचा था ये दिन भर ,
                      कि  हम  कुछ  खा न पायेंगे
आदमी चाहता है कुछ
मगर होता है उल्टा कुछ
कि किस्मत की पहेली ये,
                      कभी सुलझा न पायेंगे
चबा सकते थे जब खाना
नहीं था पास में खाना
मिला खाना गिरे सब दांत ,
                         अब कैसे  चबायेंगे

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: