*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, August 20, 2013

सावन की बूँदा बांदी में

  सावन की बूँदा  बांदी  में

इस सावन की ,मन भावन की,प्यारी सी बूंदाबांदी में
मेह न मदिरा बरस रही है ,प्यारे मौसम बरसाती में बी
जल की बूँदें ,कुंतल से बह, गाल गुलाबी पर  ढलकेगी
कोमल ,मतवाले कपोल पर ,मादक सी मदिरा छलकेगी
प्यासे होठों से पी मधुरस ,अपनी प्यास बुझायेंगे  हम
भीग फुहारों में तेरे संग ,भीग प्रेमरस  जायेंगे हम
तेरे वसन ,भीग जब तेरे ,चन्दन से तन को चूमेंगे
देख नज़र से ,तेरा कंचन,हम भी ,पागल हो झूमेंगे
जाने क्या क्या,आस लगा कर ,रख्खी है  मन उन्मादी ने
इस सावन की ,मन भावन की,प्यारी सी बूंदाबांदी में

मदनमोहन बाहेती'घोटू' 

No comments: