*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, August 20, 2013

किसी का फोन आ जाये

            किसी का फोन आ जाये

मचलती कामनाये हो ,किसी का फोन आ जाए
उबलती भावनाएं हो,  किसी का फोन आ जाए
उफन के दूध बर्तन से ,निकल कर गिरनेवाला हो,
बहुत हम हडबडाये हो,किसी का फोन आ जाए
कभी जब सोने को होते ,आँख लगने ही वाली हो ,
और घंटी घनघना जाए,किसी का फोन आ जाए
खबर अच्छी, बुरी हो या कि वो फिर रांग नंबर  हो,
बहुत गुस्सा हमें  आये ,किसी का फोन आ जाए
कलम ले हाथ में हमने ,लिखा हो मुखड़ा कविता का,
बोल बन भी न पाए हो, किसी का  फोन आ जाए
आज की जिंदगानी में ,फोन है इस कदर छाया ,
कोई आये न आये पर ,किसी का फोन आ जाए

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: