*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Saturday, June 29, 2013

Life is Just a Life: खामोश पलकें Khamosh Palakein

Life is Just a Life: खामोश पलकें Khamosh Palakein: तेरा इन खामोश पलकों, संग गुप चुप मुस्कुराना, आँख से कुछ कर इशारे, तेरा मुड कर रूठ जाना। शबनम सा चुपके से बरसना, और फूलों की पन...

No comments: