*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Sunday, June 2, 2013

अंगूठा -सबसे अनूठा


बंद कर मुट्ठी को,ऊपर अंगूठा करो,
                      इसे कहते  थम्स अप ,मतलब सब ठीक है 
बंद  कर  मुट्ठी को,नीचे अंगूठा करो,
                       लिफ्ट तुमको चाहिए ,ये  इसका प्रतीक है 
उंगली ,अंगूठे साथ ,होता जब चोडा हाथ,
                        या तो मारे झापट या फिर मांगे भीख  है 
काम निकल जाने पर,अंगूठा दिखाते सब,
                        किसी पे भरोसा नहीं करो ये ही सीख  है 

'घोटू ' 

No comments: