*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, June 5, 2013

आओ पर्यावरण बचाएं

पर्यावरण दिवस पर विशेष 
-------------------------------
       
        आओ पर्यावरण बचाएं 
जबसे भार्या वरण  किया है,
                  और  बंधा वैवाहिक बंधन 
मस्ती भरे स्वच्छ जीवन में ,
                   चिंताओं का  बढ़ा प्रदूषण 
धुल धूसरित हुई हवाएं,
                   मुश्किल लेना सांस हो गया 
खर्चे है हो गए चोगुने ,
                    जीवन में अब त्रास  हो गया 
नित्य नित्य नूतन फरमाईश ,
                    मेरी जेब प्रदूषित करती 
कितनी करे सफाई कोई,
                      मुश्किल हर दिन दूनी बढ़ती
लोभ मोह और कपट क्रोध का,
                       इतना  कचरा इसमें डाला 
निर्मल  स्वच्छ धार गंगा की,
                       आज रह  गयी बन कर नाला    
मुक्त करें इसको कचरे से ,
                         निर्मल,सुन्दर, स्वच्छ बनाएं 
         आओ,पर्यावरण  बचाएं 
मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: