*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Friday, June 7, 2013

दुनिया के रंग

           दुनिया के रंग 
        
इस दुनिया के कई रंग है 
कोई का दिल बड़ा  तंग है 
कोई के मन में  उमंग  है 
सबके अपने पृथक ढ़ंग है 
             बाहर से दिखता सफ़ेद पर 
              देखो यदि त्रिपार्श्व लगा कर 
             सतरंगी  दिखता है  मंज़र 
             खूब मज़ा लो इसका जी भर 
ये दुनिया तो सतरंगी है 
तृप्त कभी,भूखी नंगी  है 
कभी अजब है ,बेढंगी है 
दानी भी है,भिखमंगी  है 
              कोई मुहब्बत में है डूबा 
              तो कोई नफरत में डूबा 
              कोई इस दुनिया से ऊबा  
               सबका अलग अलग मंसूबा 
कोई लगा कमाने में है 
कोई लगा लुटाने में है 
कोई लगा बनाने  में है 
कोई लगा गिराने में है 
                कोई मालामाल बहुत है
                तो कोई कंगाल बहुत है 
                कोई तो खुशहाल बहुत है  
                तो कोई बदहाल बहुत है 
कोई भूखा रहे बिचारा 
तो फिर कोई अपच का मारा 
खा न सके ,तरसे बेचारा 
कोई फिरता मारा मारा 
                  तो कोई बीमार बहुत है 
                   दुखी और लाचार बहुत है 
                   तो कोई दमदार  बहुत है 
                    बहुरंगी  संसार  बहुत है 
मीठा मीठा सबसे बोलो 
अंतर्मन की आँखें खोलो 
सबके मन में प्यार संजोलो  
सबको एक तराजू तौलो 
                     सदविचार का चश्मा पहनो 
                      संस्कार का चश्मा  पहनो 
                      सदा  प्यार का चश्मा पहनो 
                       सदाचार का चश्मा पहनो 
धुन्धलाहट सब मिट जायेगी 
दुनिया साफ़ नज़र आयेगी 
प्रेम लगन जब लग जायेगी 
सदा जिन्दगी मुस्कायेगी 

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

                               

No comments: