*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, May 2, 2013

मै कोई राम नहीं हूँ

    

मै इस देश की बड़ी हस्ती 
भले ही इस पोजिशन पर ,
बैठाया गया था जबरजस्ती 
पर अब इस  ओहदे की पड़  गयी है आदत 
और देश में जब भी कोई घोटाला होता है ,
तो विरोधी दल सब 
मुझको उसमे इन्वोल्व करते है 
और मेरे इस्तीफे की मांग करते है 
भैया,न तो ये रामराज्य है ,न मै राम हूँ 
जो  धोबी के कहने पर ,
अपनी पत्नी को घर से निकाल दूं 
और उमर भर करता रहूँ पश्चाताप 
क्या ये अच्छी बात है ,बतलाइये आप 
मै तो मनमोहन श्री कृष्ण हूँ,
महाभारत करवाउंगा 
कौरव और पांडवों को लडवाऊँगा
और खुद चुपचाप सारथी  बना , 
अर्जुन का रथ चलाऊंगा 

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: