*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, March 20, 2013

जीवन तो है चाट चटपटी

      जीवन तो है चाट चटपटी  

जीवन तो है तला पकोड़ा ,मस्त चटपटा ,गरम गरम ,
                       कोई चेप चेप चटनी से,इसके मज़े  उठाता है
है परहेज किसी को मिर्ची से या तली वस्तुओं से ,
                        'क्लोस्ट्राल 'नहीं बढ़ जाए ,खाने में घबराता है
आलू की टिक्की सा यौवन,गरम गरम ,सौंधी खुशबू,
                         जैसे लगता चाट चटपटी,मुंह में आता है पानी
कोई 'टोन्सिल 'से डरता है तो कोई 'इन्फेक्शन 'से,
                           मन ललचाता फिर भी खाने में करता आना कानी
एक गोलगप्पे से जैसा ,जब हो खाली ये जीवन,
                          इसमें भरो चटपटा पानी ,मुंह में  रख्खो ,खा जाओ
 तीन समोसे के कोनो में ,तीन लोक दर्शन कर लो ,
                            जी भर इनका मज़ा उठाओ, निज मन को मत तरसाओ 

मदन मोहन बाहेती 'घोटू'

No comments: