*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, March 6, 2013

घोटू के सवैये-रसखान का अंदाज

       घोटू के सवैये-रसखान का अंदाज
                  1
काँपे क्लर्क और चपरासी,बाबू, और अफसर घबराये
व्यापारी,सप्लायर ,ठेकेदार ,रोज ही शीश  नमाये 
जा की एक डांट से थर थर ,काँपे लोग,सहम सब जाये 
ताहे ससुर की छोहरिया ,अपनी उंगली पर नाच नचाये
                     2
माल में ढून्ढयो,बजारन , गलियन ,बाग़ बगीचे सब बिचरायन
कालिज को ले नाम गयो पर पहुँचो न ,प्रिंसिपल  बतलायन
ढूँढत  ढूँढत हार गयो ,'घोटू'  बतलायो न   ,लोग,  लुगायन 
देख्यो दुरयो  वह पीज़ा हट में,गर्ल फ्रेंड संग मौज उडायन 

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: