*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, February 13, 2013

Life is Just a Life: चटका मगर मटका कोई नहीं Chatka magar Matka koi nahi...

Life is Just a Life: चटका मगर मटका कोई नहीं Chatka magar Matka koi nahi...: बेहद सलीके से चटका मगर मटका कोई नहीं , अब तक मौत की  नजर से भटका कोई नहीं। दिख तो जाते रोज हैं  कुछ एक  हसीन चेहरे , तेरे बाद आज ...

No comments: