*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Sunday, February 10, 2013

निष्ठा

               निष्ठा 

जो अपने घर में श्वानो को पाला करते 
भली तरह से वो ये बातें,जाना करते 
हरदम चौकन्ने से रहते श्वान बहुत है 
स्वामिभक्त कहाते,निष्ठावान  बहुत है 
सुबह शाम पर उनको टहलना पड़ता है 
उनको सहलाना और बहलाना  पड़ता है 
अगर चाहिये  तुम्हे किसी की सच्ची निष्ठां 
कभी उठानी भी पड़  सकती ,उसकी विष्ठा 

घोटू 

No comments: