*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Sunday, February 17, 2013

माँ की महानता

            माँ की महानता

माँ महान है                                बुद्धि दायिनी      
माँ उड़ान है                                  सुख प्रदायिनी 
स्वाभमान है -माँ                         जन्मदायिनी--माँ 
माँ विशेष है                                ज्ञान सुरसरी 
माँ सन्देश है                                प्यार से भरी 
माँ स्वदेश है -माँ                          ममता माधुरी -माँ 
माँ तरंग है                                    माँ जीवन है 
माँ उमंग है                                    माँ आँगन है 
सदा संग है -माँ                             वृन्दावन  है-माँ 
माँ संगीत है                                 माँ है जननी 
माँ पुनीत है                                  ज्ञान वर्धिनी 
प्रेमगीत है --माँ                            पथप्रदार्शिनी -माँ 
माँ है शिक्षा                                 माँ गंगा   है 
माँ है दीक्षा                                 जगदम्बा  है
और परीक्षा -माँ                          अनुकम्पा है-माँ 
सद विचार है                               बुद्धि प्रदाता 
प्रीत धार है                                   सुख की दाता 
मधुर प्यार है -माँ                          भाग्य विधाता -माँ 
माँ भोली है                                  माँ  कविता है 
माँ डोरी है                                    माँ सरिता है 
 माँ लोरी है-माँ                             और गीता है -माँ 
माँ विकास है                              आशीषें भर 
माँ प्रकाश है                                करे निछावर    
माँ मिठास है-माँ                          जो जीवन भर -माँ 
माँ अनूप है                                माँ पोषण है 
ज्ञान कूप है                                 माँ चन्दन है 
 देवी रूप है -माँ                           आराधन है -माँ 
माँ दीया  है                                  माँ ममता है 
कुछ न लिया है,                          माँ समता  है 
सदा दिया है-माँ                            माँ बस माँ है -माँ 

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

1 comment:

DINESH PAREEK said...

माँ की महानता से बहुत अच्छी तरह से रुबरु कराया अपने अति उतम
आपका बहुत बहुत आभार
मैं आपके ब्लॉग पर पहली बार आया हूँ आगे निरंतर आता रहूगा
आप से आशा करता हूँ की आप एक बार मेरे ब्लॉग पर जरुर अपनी हजारी देंगे और
दिनेश पारीक
मेरी नई रचना फरियाद
एक स्वतंत्र स्त्री बनने मैं इतनी देर क्यूँ