*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Sunday, January 20, 2013

Life is Just a Life: मैं ढूंढ़ रहा था एक रुबाई Main Dhundh Raha Tha Ek ...

Life is Just a Life: मैं ढूंढ़ रहा था एक रुबाई Main Dhundh Raha Tha Ek ...: मैं  ढूंढ़  रहा  था  एक रुबाई , मिली  मगर  वो  थी तन्हाई। सपनों  के  पीछे   दौड़ा  था , नींद  खुली जब  ठोकर खाई। अंधेरों से  ...

No comments: