*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, January 22, 2013

Life is Just a Life: बादलों जी भर बरस लो Badlon Jee Bhar Bras Lo

Life is Just a Life: बादलों जी भर बरस लो Badlon Jee Bhar Bras Lo: इस बार , ये बादलों जी भर बरस लो .. है मुझे है याद आती , आह को बूंदे बनाती , काल भी जब हारकर , घाव सूखा जानकर , साँस लेता हो सु...

No comments: