*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Sunday, January 13, 2013

कल और आज

      कल और आज

याद हमें आये है वो दिन ,
                            जब ना होते थे कंप्यूटर
चालीस तक के सभी पहाड़े,
                          बच्चे रटते रहते दिन भर
ना था इंटरनेट उन दिनों ,
                          और न होते थे मोबाईल
कभी ताश या फिर अन्ताक्षरी ,
                           बच्चे ,खेला करते सब मिल
ना था टी वी ,ना एम .पी ,थ्री ,
                           ना ही मल्टीप्लेक्स ,माल थे
ना ही को- एजुकेशन था ,
                            हम सब कितने मस्त हाल थे
हाथों में स्कूल बेग और ,
                             कोपी ,कलम, किताबें होती
रामायण के किस्से होते ,
                             देश प्रेम की बातें होती
रहता था परिवार इकठ्ठा,
                            पांच ,सात  होते थे बच्चे
घर में चहल पहल रहती थी ,
                             सच वो दिन थे कितने अच्छे
अब तो छोटे छोटे से ,बच्चों,,
                                    के हाथों में है मोबाईल
कंप्यूटर और लेपटोप के ,
                                  बिना पढाई करना मुश्किल
नन्हे बच्चे जो कि अपना ,
                               फेस तलक ना खुद धो सकते
खोल फेस बुक,सारा दिन भर,
                                   मित्रों  से  है बातें  करते  
अचरज,छोटे बच्चों में भी ,
                                 पनप रहा ये नया ट्रेंड  है
उमर दस बरस की भी ना है ,
                                 दस से ज्यादा गर्ल फ्रेंड है
मेल भेजते फीमेलों को,
                                  बात करें स्काईप पर मिल
ट्वीटर  पर ट्विट करते रहते ,
                                  हरदम ,हाथों में मोबाईल
हम खाते थे लड्डू,मठरी ,
                                   ये खाते है पीज़ा ,बर्गर
ईयर फोन लगा कानों में,
                                   गाने सुनते रहते दिन भर
क्योकि अब ,एक बेटा ,बेटी ,
                                     एकाकी वाला बचपन है
मम्मी,पापा ,दोनों वर्किंग ,
                                   भाग दौड़ वाला जीवन है
'हाय'हल्लो 'की फोर्मलिटी में,
                                  अपनापन  हो गया गौण है
इतना 'आई' हो गया हावी ,          
                                  'आई पेड 'है ,'आई फोन 'है
ये ही अगर  तरक्की है तो ,
                                    इससे हम पिछड़े अच्छे थे
मिलनसार थे,भोलापन था ,
                                        प्यार मोहब्बत थी,सच्चे थे   

  मदन मोहन बाहेती'घोटू'
                    

No comments: