*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, December 6, 2012

सब कुछ गुम हो गया

        पते  की बात
  सब कुछ  गुम  हो गया

रात की नीरवता ,ट्रक और बसों की ,
                   चिन्धाड़ों  में  गुम  हो गयी 
दादी नानी की कहानियां,टी वी के,
                      सीरियलों में गुम  हो गयी 
बच्चों के चंचलता ,स्कूल के ,
                     होमवर्क के बोझ  से गुम  हो गयी
परिवार की हंसीखुशी ,बढती हुई ,
                     मंहगाई के बोझ से  गुम   हो  गयी
आदमी की भावनाएं और प्यार ,
                       भौतिकता के भार तले गुम हो गया
घर के देशी खाने का स्वाद ,
                      पीज़ा और बर्गर के क्रेज़ में गुम हो गया
   अब तो बस,मशीनवत ,जीवन सब जीते है
   भरे हुए दिखते  है ,अन्दर से रीते     है
मदन मोहन बाहेती'घोटू'


 
 

No comments: