*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, December 5, 2012

पेन्सिल मै

  पेन्सिल मै 

प्रवृत्ति उपकार की है,भले सीसा भरा दिल में
                                       पेन्सिल   मै
मै  कनक की छड़ी जैसी हूँ कटीली
किन्तु काया ,काष्ठ सी ,कोमल ,गठीली
छीलते जब मुझे ,चाकू या कटर  से
एक काली नोक आती है निकल  के
जो कि कोरे कागजों पर हर्फ़  लिखती
भावनाएं,पहन जामा, शब्द   दिखती
प्रेम पत्रों में उभरता ,प्यार मेरा
नुकीलापन  ही बना श्रृगार  मेरा
मोतियों से शब्द लिखती,काम आती बहुत,छिल, मै
                                                  पेन्सिल   मै 
शब्द लिखना ,सभी को मैंने सिखाया 
साक्षर कितने निरक्षर  को बनाया
कविता बन,कल्पनाओं को संवारा
ज्ञान का सागर ,किताबों में उतारा
कलाकृतियाँ ,कई ,कागज़ पर बनायी
आपके हित,स्वयं की हस्ती मिटाई
बांटने को ज्ञान, मै , घिसती रही हूँ
छिली,छिलती रही  पर लिखती रही हूँ
कर दिया उत्सर्ग जीवन,नहीं कोई कसक दिल में
                                               पेन्सिल मै

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: