*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Saturday, December 29, 2012

हम बस यही हैं चाहते

सिकुड़कर सुरक्षा के कवच में
नहीं बिल्कुल हम रहना चाहते
नजरिये सोच फितरत में अब 
केवल बदलाव हैं लाना चाहते \

ना कड़ा भाई का हो कभी पहरा
परिजन सभी के चिंतामुक्त हों
ना पति बच्चों को फिकर कोई
अकेले हों कहीं भी भयमुक्त हों \

ना किसी अपराध का हो डर कहीं
न अश्लीलता,भद्दगी का घर कहीं
दिन हो या रात या गली रिक्त हो
हर  नुक्कड़,राह निर्भय सिक्त हो \

न हो हावी किसी पर असभ्यता
लोक लाज हो हया में भव्यता
दिखे हर मर्द की आँखों में बस
निज माँ,बहन,बेटी सी मर्यादिता \


No comments: