*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Monday, November 19, 2012

Life is Just a Life: लम्हें Lamhein

Life is Just a Life: लम्हें Lamhein: ये लम्हें तोड  देते हैं, कभी ये  जोड देते हैं , बेहद शख्त जान हूँ, जो जिन्दा छोड देते हैं। लम्हें सब्ज सुर्ख रंगी , कटारों  से कतर ...

No comments: