*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Saturday, November 10, 2012

रेपिंग पेपर

        रेपिंग पेपर

          मै तो रेपिंग का पेपर हूँ
        चमक दमक वाला सुन्दर सा,
        मै तो एक आवरण भर हूँ
        मै तो रेपिंग का पेपर हूँ
छोटी,बड़ी सभी सौगातें
मुझ में लोग छुपा कर लाते
मेरा आकर्षण है बस तब तक
मुझ में गिफ्ट छुपी है जब तक
जब भी मै हाथों में आता
जो भी पाता,वो मुस्काता
सभी देखते रूप चमकता
अन्दर क्या है की उत्सुकता
जैसे कभी सुहाग रात में
पहली पहली मुलाक़ात में
        आकुल पति उठाता  जिसको,
        मै दुल्हन का, घूंघट भर हूँ
         मै तो रेपिंग का पेपर हूँ
कितनी गिफ्टें,नयी,पुरानी
अगर आपको है निपटानी
मेरे बिना काम ना चलता
मै हूँ उनका ,रूप बदलता
एक गिफ्ट,कितने ही रेपर
बदल,बदल,बदला करते घर
लेकिन गिफ्ट कोई जो पाता
उसे आवरण नहीं सुहाता
अन्दर क्या है,यही चाव है
उत्सुकता ,मानव स्वभाव है
        तिरस्कार है मेरी नियति,
         मै गूदा ना,छिलका भर हूँ
         मै तो रेपिंग का पेपर हूँ
लिपट  गिफ्ट के प्यारे तन से
मै आनंदित होता ,मन से
जन्मदिवस,शादी,दीवाली
रहती मेरी शान निराली
हाथों हाथ ,लिया मै जाता
बड़े गर्व से हूँ इठलाता
देने वाला जब जाता है
मुझ को फाड़ दिया जाता है
मेरी तरफ नहीं देखेंगे 
टुकड़े टुकड़े कर फेंकेगे
           पहुंचूंगा कूड़ेदानी में,
           अल्प उम्र है,मै नश्वर हूँ
            मै तो रेपिंग का पेपर हूँ 

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

1 comment:

shailrachanablogspotin said...

dard har kisi ko hota hai .ye to raiping pepar hai.achhi abhivyakti