*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Tuesday, May 29, 2012

आपकी खूबसूरती

आपकी खूबसूरती

आपको छूने से आ जाती जिस्म में गर्मी,
       देख कर आँखों को ,ठंडक मिले    गजब सी है
आपके पास में आने से पिघल जाता बदन,
            आपके  हुस्न की तासीर ही अजब सी है
 आपके आते ही ,सारी फिजा बदल जाती,
          आप मुस्काती  हैं,तो जाता है बदल मौसम
एक खुशबू सी बिखर जाती है हवाओं में,
          चहकने लगता है,महका  हुआ सारा  गुलशन
आप इतनी हसीं है और इतनी नाज़ुक है,
          आपको छूने में भी थोडा  हिचकता है दिल
आप में नूर खुदा का है,आब सूरज की,
         चमक है चन्दा सी चेहरे पे,हुस्न है कातिल
बड़ी   फुर्सत से गढ़ा है बनाने वाले ने,
         उसमे कुछ ख़ास मसाला भी मिलाया  होगा
देखता रह गया होगा वो फाड़ कर आँखें,
         आपको रूबरू जब सामने    पाया    होगा

मदन मोहन बाहेती'घोटू'
     

1 comment:

Sanju said...

Very nice post.....
Aabhar!
Mere blog pr padhare.