*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Friday, May 25, 2012

"ह्रदय तारों का स्पंदन" का आनलाइन विमोचन.....

सर्वप्रथम मै सत्यम शिवम आप सभी साहित्य प्रेमियों का तहे दिल से अभिनंदन करता हूँ.....आखिरकार वो घड़ी आ ही गयी जिसका हमसबों को कब से इंतजार था।आज यहाँ इस मंच पर हमसब मिल कर "साहित्य प्रेमी संघ" के त्तत्वावधान में प्रकाशित काव्य संग्रह "ह्रदय तारों का स्पंदन" का आनलाइन विमोचन करेंगे।इस अवसर पर आप सभी सम्मिलित कवियों के साथ सभी साहित्य प्रेमीयों की उपस्थिती हमारे लिये सौभाग्य की बात है।

सम्मिलित कवि अपने हाथों से रिबन को काटकर आनलाइन विमोचन के कार्य को क्रियान्वित करे....साथ ही अपने ब्लाग के द्वारा और अन्य सोशल नेटवर्किंग साइटस के द्वारा सभी को बधाई और शुभकामनाएं दे.........धन्यवाद।


निचे पुस्तक का पूरा विवरण दिया जा रहा है....

(30 कवियों की प्रेम काव्यांजली) 

संपादक:-सत्यम शिवम

काव्य पुस्तक
कुल पृष्ठ:-192
मूल्य रु:-351

सम्मिलित कविः-
1.) ललित शर्मा
2.) विष्णु सक्सेना
3.) विश्वजीत सपन
4.) अर्चना चावजी
5.) गौरव सुमन
6.) कविता विकास
7.) पुरुषोतम वाजपेयी
8.) अनुलता राज नायर
9.) हेमन्त कुमार दुबे
10.) प्रदीप तिवारी
11.) स्वाती वल्लभा राज
12.) प्रियंका जैन
13.) अर्चना नायडू
14.) नीरज द्विवेदी
15.) रागिनी मिश्रा
16.) नीरज विजय
17.) राजेश कुमारी
18.) सुषमा वर्मा
19.) सीमा गुप्ता
20.) रजनी नैयर
21.) वंदना गुप्ता
22.) रोशी अग्रवाल
23.) अंकित गु्प्ता
24.) लक्ष्मी नारायण लहरे
25.) विनोद भगत
26.) देवेन्द्र शर्मा
27.) हेमन्त चौहान
28.) रेखा श्रीवास्तव
29.) अभिषेक सिन्हा
30.) सत्यम शिवम

"साहित्य प्रेमी संघ" के त्तत्वावधान में प्रकाशित काव्य संग्रह "ह्रदय तारों का स्पंदन".....30 भावप्रधान कवियों की प्रेमांजलि काव्य से सुशोभित.....एक अनोखा काव्य संग्रह...जिसमें आपको प्रेम की मनोहारी 150 कवितायें एक साथ पढ़ने का मौका मिलेगा...और साथ ही इन कवियों से रुबरु होने का भी मौका मिलेगा....यह एक अद्भूत स्पंदन है साहित्य ह्रदय में...."ह्रदय तारों का स्पंदन".......[यह काव्य संग्रह अब आपको प्राप्त हो सकती है.....इस काव्य संग्रह की अग्रिम बुकिंग कराने के लिये और अपनी प्रति सुनिश्चित कराने के लिए आज ही हमे मेल से सम्पर्क करे at contact@sahityapremisangh.com या इस नम्बर पर सूचित करे (9934405997)....."अग्रिम बुकिंग कराने पर पुस्तक रिबेटिंग कीमत पर प्राप्त हो सकेगी".........धन्यवाद]
ISBN 
(978-81-921666-2-9)
फेसबुक पेज at http://www.facebook.com/HridayTaaronKaSpandan

32 comments:

seema gupta said...

काव्य संग्रह "ह्रदय तारों का स्पंदन" में अपनी कविताओं और नाम देख कर बहुत ही गौरव का अनुभव हो रहा है. सभी प्रकाशित मित्रों को हार्दिक शुभकामनाये. इस अनमोल संग्रह के लिए Satyam Shivam ji आपको हार्दिक बधाई और शुभकामनायें
Warm Regards

Rajesh Kumari said...

मैं इस काव्य संग्रह के साथ जुड़ कर अपने को भाग्य शाली समझती हूँ साथ ही सत्यम जी को हार्दिक आभार प्रकट करती हूँ जो उन्होंने इसमें शामिल होने का मुझे निमंत्रण और शुभावसर प्रदान किया |जल्दी ही इस पुस्तक के सभी लेखको की प्रविष्टियाँ भी पढने को मिलेंगी उन सभी लेखकों को और सत्यम जी को शुभकामनाएं एवं बधाई इस आन लाइन विमोचन की सफलता के लिए शुभकामनाएं |

Hemant Chauhan said...
This comment has been removed by the author.
Hemant Chauhan said...

'' ह्रदय तारो का स्पंदन '' संयुक्त काव्य संग्रह के विमोचन पर सत्यम शिवम जी को हार्दिक धन्यवाद के साथ सभी संग्रह मे समिल कवि मित्रों को बधाई देना चाहूँगा जिन्होने पुस्तक को साकार रूप देने मे अपना योगदान दिया... आशा करता हूँ पुस्तक सभी पाठको को पसंद आएगी ...

Er. सत्यम शिवम said...

Archana has left a new comment on your post ""ह्रदय तारों का स्पंदन" का आनलाइन विमोचन.....":

बधाई व शुभकामनाए ...आपने इन साथियों के साथ जुड़ने का मौका दिया आभार !! हार्दिक अभिनन्दन!!

Rajesh Kumari said...

विमोचन के इस अवसर पर सत्यम जी के साथ आप सभी को राजेश कुमारी की हार्दिक बधाई सम्मिलित कविः-
1.) ललित शर्मा
2.) विष्णु सक्सेना
3.) विश्वजीत सपन
4.) अर्चना चावजी
5.) गौरव सुमन
6.) कविता विकास
7.) पुरुषोतम वाजपेयी
8.) अनुलता राज नायर
9.) हेमन्त कुमार दुबे
10.) प्रदीप तिवारी
11.) स्वाती वल्लभा राज
12.) प्रियंका जैन
13.) अर्चना नायडू
14.) नीरज द्विवेदी
15.) रागिनी मिश्रा
16.) नीरज विजय
17.) राजेश कुमारी
18.) सुषमा वर्मा
19.) सीमा गुप्ता
20.) रजनी नैयर
21.) वंदना गुप्ता
22.) रोशी अग्रवाल
23.) अंकित गु्प्ता
24.) लक्ष्मी नारायण लहरे
25.) विनोद भगत
26.) देवेन्द्र शर्मा
27.) हेमन्त चौहान
28.) रेखा श्रीवास्तव
29.) अभिषेक सिन्हा
30.) सत्यम शिवम

Neeraj Vijay said...

I thank Mr. Satyam shivam for his great efforts and work to bring new poets in the book. There are may people who write poems but dont have the platform and opportunity to get them published. But Mr Satyam Shivam and Sahitya premi sangh has provided that opportunity to all of us budding poets. I take this opportunity To congratulate all Poets in the book "Hridaya taroon ka spandan" my best wishes n success in the future.

Cheers for The new book and Mr. Satyam Shivam. Gret work accomplished.

I am one of the Poets in the book and i feel very proud to be included in the book....Congrats to all the poets.

purushottam bajpai said...

मित्रों;
साहित्य प्रेमी संघ का ये अभिनव प्रयोग है , कि इसने, फेसबुक के माध्यम से पूरे देश के , नवोदित कवियों को एक छत्र के नीचे लाकर, एक नए परिवार का स्वरुप देकर , साहित्य जगत में एक सुखद शुरुवात की है . मुझे तो इसी अंक के साथ, ही इस संघ से जुड़ने का सौभाग्य मिला है , लेकिन, पिछले ४-५ महीने पूर्व , जिस पुस्तक का विमोचन हुआ था, उस अवसर पर जो उत्साह , नवोदित कवियों का देखा था , वह अद्भुद था, मै उसका गवाह हूँ. . एक बारगी मुझे लगा था -- ये क्या हो रहा है, एक पर्व- एक त्यौहार जैसा माहौल बन गया था फेसबुक पर/ उसी समय , मैंने निश्चित कर लिया था , कि मै भी , इस पर्व का सहभागी बनूगा, और , अपनी मित्रों का ... वास्तव में , प्रबुद्ध मित्रों के परिवार का विस्तार करूंगा./
मुझे ख़ुशी हों रही है कि इस ताजे पुष्प " ह्रदय तारों का स्पंदन " से , हमारा काव्य जगत , और सुगन्धित होगा , और , भविष्य में , यह साहित्य प्रेमी संघ, एक पूर्ण पुष्प वाटिका के रूप में , समाज में अपना स्थान बना कर, अति सम्माननीय स्थान प्राप्त करेगा.
मै सत्यम जी को , एवं सभी नव- कवि मित्रों को बधाई देता हूँ, और आप सभी सुधि जनों से अनुरोध करता हूँ कि मेरी भी उपस्थिति , इसत्यौहार में स्वीकार करे.
धन्यवाद.;
पुरुषोत्तम बाजपेयी.,
मुंबई.

Swati Vallabha Raj said...

ॐ गणपतये नमः

सभी साहित्य प्रेमी,गुरु जन और मित्रों को नमस्कार,
साहित्य प्रेमी संघ के तत्वाधान में प्रकाशित,बहु प्रतीक्षित काव्य संकलन "ह्रदय तारों का स्पंदन" के विमोचन की सबको बधाई|यह ऐसा संकलन है जो अनेक काव्य मन के उदगार का समावेश है और कई रंग समेटे हुए है|ह्रदय से सत्यम जी को बधाई भी दूंगी और कृतज्ञता भी प्रकट करुँगी|यह संकलन और इसका विमोचन दोनों ही अपने तरीके का नवीन,आधुनिक और अनूठा समन्वयन है|
इस काव्य संकलन का अभिन्न अंग बनने पर गर्व अनुभव हो रहा है|सभी साथियों को बधाई|
आभार,
स्वाति वल्लभा राज

Archana said...

...एक कदम आगे की ओर ...बढाते हुए दूसरा कमेन्ट क़र रही हू पहला स्पैम कि भेंट चढ़ गया :-)----
आप के भी कदम सदैव आगे की ओर बढ़ते रहें और आप मंजिल तक पहुचे यही शुभकामनाए आपको और आपकी टीम को साथ ही सभी प्रकाशित साथियो का हार्दिक अभिनन्दन...

बधाई व शुभकामनाए ...आपने इन साथियों के साथ जुड़ने का मौका दिया आभार !! हार्दिक अभिनन्दन!!

सदा said...

आप सभी को इस पुस्‍तक के प्रकाशन की बहुत-बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं ।

लक्ष्मी नारायण लहरे "साहिल " said...

सम्मिलित कविः-
ललित शर्मा
विष्णु सक्सेना
विश्वजीत सपन
अर्चना चावजी
गौरव सुमन
कविता विकास
पुरुषोतम वाजपेयी
अनुलता राज नायर
हेमन्त कुमार दुबे
प्रदीप तिवारी
स्वाती वल्लभा राज
प्रियंका जैन
अर्चना नायडू
नीरज द्विवेदी
रागिनी मिश्रा
नीरज विजय
राजेश कुमारी
सुषमा वर्मा
सीमा गुप्ता
रजनी नैयर
वंदना गुप्ता
रोशी अग्रवाल
अंकित गु्प्ता

विनोद भगत
देवेन्द्र शर्मा
हेमन्त चौहान
रेखा श्रीवास्तव
अभिषेक सिन्हा
सत्यम शिवम
आपको सभी मित्रों को हार्दिक बधाई ............

Vishwajeet Sapan (विश्वजीत सपन) said...

अत्यंत हर्ष की बात है कि एक साथ इतने कवियों को एक सुन्दर अवसर प्रदान किया गया। अत: सर्वप्रथम सत्यम शिवम् जी को समस्त कवियों की ओर से हार्दिक आभार ।
सभी कवियों को मेरी ओर से बहुत बहुत बधाई और भविष्य के लिए हार्दिक शुभकामनाएँ । आप सभी जीवन में और अधिक ऊँचाइयों को प्राप्त करें यही ईश्वर से कामना है ।। सादर नमन ।

Udan Tashtari said...

आप सभी का नाम विश्व के तीस महानतम समकालीन हिन्दी कविता लेखन करने वालों की सूचि में देख कर दिल बाग बाग हो गया...गर्व हुआ कि आपको हम जानते हैं. इसी तरह गौरवांवित करते रहे, यही कामनाएँ है...अनेक~ बधाई एवं शुभकामनाएं....

Udan Tashtari said...

सभी सम्मलित कवि मित्रों को सादर नमन, बधाई एवं शुभकामनाएँ...ऐसे आयोजन अनवरत चलते रहें...

expression said...

बहुत बहुत खुश हूँ.....
पहला प्रकाशन है जिसमे हमारी रचना है.....

शुक्रिया सत्यम.....
बधाई!!!
आपको, सभी रचनाकारों को और हमें भी...
:-)

अनु

Gaurav Suman said...

सर्वप्रथम सभी कवि मित्रों को बहुत बहुत बधाई !
इस बार सत्यम शिवम् ने प्रेम विषय पर ३० कवियों की काव्य संग्रह प्रकाशित करने का जो प्रयास किया है उसके लिए वो बधाई के पात्र हैं | यह विषय सभी कवियों व पाठकों को हमेशा लुभाती हैं | मुझे आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास है की यह काव्य संकलन प्रसिद्धि की नयी उचाईयों को छुएगा | मैं इसकी सफलता की कामना करता हूँ |

रेखा श्रीवास्तव said...

काव्य संग्रह को एक मूर्त रूप देने के लिए सत्यम शिवम् को कोटि कोटि धन्यवाद और सभी समांदरणीय साथियों को बधाई !

ऋता शेखर मधु said...

पुस्तक प्रकाशन के लिए सभी रचनाकारों एवं सत्यम जी को बधाई और शुभकामनाएँ !!!

अनु ,आपको यहाँ देखकर हार्दिक प्रसन्नता हो रही है|

नीलांश said...

aapka bahut aabhaar satyam ji
hamaari rachnaao ko sammilit kar ke
is anupam pustak me sthaan dene ke liye
hamaari subhkaamnaayen hai ki ye pustak
safal ho aur iski goonj jan jan tak pahunche

bahut badhaai

Priyankaabhilaashi said...

हार्दिक शुभकामनाएँ..एवं सादर धन्यवाद..!!

pradeep tiwari said...

Badhai ho..meri subhakamnaye sabhi kaviyo ke liye

saurabh sinha said...

thanks for my bro's poetry..abhishek sinha

Sawai Singh Rajpurohit said...

आपको हार्दिक बधाई सहित शुभकामनाएं

नए पोस्ट पर आप आमंत्रित हैं ।

दूसरा ब्रम्हाजी मंदिर आसोतरा में .....

Mukesh Kumar Sinha said...

aap sabon ko badhai......

Jeevan Mag said...

यह जानकर काफी अच्छा लगा की ह्रदय तारों का स्पंदन का विमोचन हो चुका है . सत्यम जी को इस शानदार पुस्तक हेतु शुभकामनायें.

Rajesh Kumari said...

आपकी इस उत्कृष्ठ प्रविष्टि की चर्चा कल मंगल वार 29/5/12 को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी |

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') said...

सभी कवियों को सादर बधाईयाँ...

हेमंत कुमार दुबे (Hemant Kumar Dubey) said...

बधाइयाँ और शुभकामनाएँ ! सत्यम जी का बहुत आभार जो उन्होंने मुझे इस काव्य संग्रह में सम्मिलित किया |

हेमंत कुमार दुबे (Hemant Kumar Dubey) said...

बधाई

Devdutta Prasoon said...

साहित्यकारों को एक माला में पिरोया है |
भावना -खेत में एकता का बीज बोया है ||
यह जागरण की एक शुरुआत है दोस्तों-
अब मात कहो,"कोंई अदीब१ सोया है ||

१- साहित्यकार

Ashok Khachar said...

हार्दिक बधाई और शुभकामनायें