*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Friday, May 25, 2012

विसंगति

    विसंगति

एक बच्ची के कन्धों पर,

                  स्कूल के कंधे  का बोझ है
एक बच्ची घर के लिए,
                  पानी भर कर लाती रोज है
एक को ब्रेड,बटर,जाम,
                      खाने में भी है नखरे
एक को मुश्किल से मिलते है,
                       बासी रोटी  के टुकड़े
एक को गरम कोट पहन कर
                        भी   सर्दी  लगती है 
एक अपनी फटी हुई  फ्राक में
                          भी ठिठुरती   है
एक के बाल सजे,संवरे,
                         चमकीले  चिकने है
एक के केश सूखे,बिखरे,
                         घोंसले  से बने  है
एक के चेहरे पर गरूर है,
                        एक में भोलापन है
इसका भी बचपन है,
                       उसका भी बचपन है

मदन मोहन बाहेती'घोटू'

No comments: