*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, May 9, 2012

माँ


ममता का कोई मोल नहीं होता ,
हतभागा है वह
जो इसे खो देता ,
माँ की ममता की
 कोई नहीं सानी ,
उसकी ममता है अथाह
नहीं मैं अनजानी ,
उसके प्यार की थपकी ,
मुझे जब भी
याद आ जाती हैं ,
आँखें नम हो जाती हैं ,
माँ की याद दिलाती हैं |
आशा 

6 comments:

expression said...

बहुत सुंदर आशा जी.....
ममतामयी प्रस्तुति..

अनु

Dr. sandhya tiwari said...

maa ki mamta ki sundar abhivyakti

sangita said...

माँ की ममता का कोई मोल नहीं ,प्यारी पोस्ट बधाई

डॉ. जेन्नी शबनम said...

भावपूर्ण रचना, बधाई.

Rajesh Kumari said...

माँ के लिए हम सदा बच्चे ही रहेंगे माँ से मिलकर ही तो बचपन लौट आता है माँ हमेशा याद आती है बहुत भावपूर्ण रचना आशा जी

Asha Saxena said...

अपनी अमूल्य टिप्पणी के लिए धन्यवाद आप सब को |
आशा