*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Friday, May 4, 2012

तिलहन,दलहन और दुल्हन

तिलहन,दलहन और दुल्हन

लोग क्लोरोस्ट्राल  से घबराते है

इसलिए तेल कम खाते   है
फिर भी तेल के दाम बढे जाते है
    उपज कम है,इसलिए ,मंहगी है तिलहन भी
सब तरफ  दाल में काला  ही काला है
मंहगाई ने सबका दम ही निकाला  है
दाल बिना रोटी का सूखा निवाला  है
         कम होती है पैदा,मंहगी है,   दलहन भी
नारी तो है देवी,नारी है मातायें
लेकिन नारी को ही,अब बेटी ना भाये
नहीं रुकी कन्या  के भ्रूण  की हत्याएं
           हो जाएगी दुर्लभ,तब मिलना  दुल्हन भी

मदन मोहन बहेती'घोटू'

No comments: