*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Wednesday, April 25, 2012

   
   
 जिन्दगी को समझाना,

अब मुस्किल सा लगता  है ।

अकेला होता हु जब भी मै,

तब मुझे महफ़िल सा लगता है।

महफ़िलो मे होता  हु जब भी मै,

तभी सूनसान सा लगता है।

एक पल जो  अपना सा लगा था कभी ,

अब वही  मुझे पराया सा  लगता है।

 जो  कही  बहुत दूर  है  मुझसे ,

वही  मुझे अपना सा लगता है।

जब भी हसने को दिल चाहता है ,

तभी  मेरा मन उदासा सा लगता है।

कभी मौत से तार्रुफ़ होता है तो,

लगता है अभी तो जीना बाकि है।

जब जीने की चाह होती है,

तब मौत में कुछ खास सा लगता है।

दोस्तों न जाने क्यु मेरा मन 

आजकल बहुत उदास सा लगता है....

..

रचनाकार =प्रदीप तिवारी
     
www.kavipradeeptiwari.blogspot.com
i
i

No comments: