*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Friday, March 23, 2012

ग़ज़लगंगा.dg: आदमी के भेष में शैतान था

आदमी के भेष में शैतान था.
हम समझते थे कि वो भगवान था.

एक-इक अक्षर का उसको ज्ञान था.
उसके घर में वेद था, कुरआन था.

सख्त था बाहर की दुनिया का सफ़र
घर की चौखट लांघना आसान था.

ख्वाहिशें मुर्दा पड़ी थीं जा-बा-जा
दिल भी गोया एक कब्रिस्तान था.

रूह की कश्ती में कुछ हलचल सी थी
जिस्म के अंदर कोई तूफ़ान था.

हर कदम पर था भटक जाने का डर
शहर के रस्तों से मैं अनजान था.

इश्रतों की दौड़ में शामिल थे हम
दूर तक फैला हुआ मैदान था.

मैं निहत्था था मगर लड़ता रहा
चारो जानिब जंग का मैदान था.

मौत की पगडंडियों पे भीड़ थी
जिन्दगी का रास्ता वीरान था.

अपनी किस्मत आप ही लिखता था मैं
जब तलक मेरा समय बलवान था.

जिन्दगी की मेजबानी क्या कहें
हर कोई दो रोज का मेहमान था.

इतनी बेचैनी भी होती है कहीं
मैं समंदर देखकर हैरान था.

---देवेंद्र गौतम

ग़ज़लगंगा.dg: आदमी के भेष में शैतान था

4 comments:

Rajesh Kumari said...

bahut hi umda kaabiletareef ghazal.

रविकर said...

सुन्दर प्रस्तुति ।

नवसंवत्सर की शुभकामनायें ।।

दिनेश पारीक said...

बहुत बहुत धन्यवाद् की आप मेरे ब्लॉग पे पधारे और अपने विचारो से अवगत करवाया बस इसी तरह आते रहिये इस से मुझे उर्जा मिलती रहती है और अपनी कुछ गलतियों का बी पता चलता रहता है
दिनेश पारीक
मेरी नई रचना

कुछ अनकही बाते ? , व्यंग्य: माँ की वजह से ही है आपका वजूद: एक विधवा माँ ने अपने बेटे को बहुत मुसीबतें उठाकर पाला। दोनों एक-दूसरे को बहुत प्यार करते थे। बड़ा होने पर बेटा एक लड़की को दिल दे बैठा। लाख ...

http://vangaydinesh.blogspot.com/2012/03/blog-post_15.html?spref=bl

Patali-The-Village said...

सुन्दर प्रस्तुति| नवसंवत्सर २०६९ की हार्दिक शुभकामनाएँ|