*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, November 17, 2011

कविता में परिवर्तन क्यूँ

सदा से ही प्रशंसक रहा ,
तुम्हारे कृतित्व का ,
इसको और बल मिला ,
जब मनोयोग से तुम्हें पढ़ा ,
इतना कुछ तुमने लिखा है ,
थाह पाना मुश्किल है ,
इच्छा तुमसे मिलने की ,
अधिक बलवती होती गई ,
जब भी अवसर मिला ,
तुमसे मिला ,
कुछ अधिक ही संपर्क रहा ,
मित्रता प्रगाढ़ होती गई ,
मैने जो कुछ भी लिखा ,
त्रुटियों को क्षम्य मान ,
मुझे सराहा,
प्रोत्साहित किया ,
कई बार साथ बैठा करते थे ,
भिन्न विषयों पर चर्चा करते हें ,
उनमे गहरे पैठ जाते थे ,
आत्मसात करते जाते थे ,
कई खंड काव्य रचे तुमने ,
वे अमर तुम्हें कर गए ,
दिलाया स्थान ,
इतिहास और साहित्य में ,
कई लोगों की प्रेरणा बन गए,
पहले कविता बहुरंगी थी ,
कई विधाएं छूती थी ,
फिर न जाने क्या हुआ ,
वह विद्रोह से भरती गई ,
यह कैसा परिवर्तन आया ,
क्रांतिकारी विचारक बन गए ,
जब भी कारण जानना चाहा ,
हर बार हंस कर टाल गए ,
मैं आज भी तुम्हारे जाने के बाद ,
रचनाएँ समेटे बैठा हूं ,
कारण विद्रोह का खोज रहा हूं ,
लेखन में यह बदलाव,
अचानक आया कैसे ,
कलम ने स्वयं को ,
विद्रोही बनाया कैसे |
आशा

4 comments:

सागर said...

behtreen prstuti...

आशा said...

टिप्पणी के लिए धन्यवाद |
कभी मेरे ब्लॉग आकांक्षा पर भी आएं |
आशा

Sadhana Vaid said...

कवि और विचारक किसी एक विचारधारा से बँध कर नहीं रहते ! उन्हें क्या प्रेरित कर जाता है समझना मुश्किल है ! बहुत सुन्दर रचना !

आशा said...

टिप्पणी के लिए धन्यवाद |
आशा