*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Friday, November 18, 2011

आज भी प्यार है तुझे ..

मै जनता हु आज भी प्यार  है तुझे ..
   मेरे हर एहसास ,
                      आज भी यद् होंगे तुझे|
मेरी हर बात,
                      याद जरुर आती होगी तुझे|
वो लड़ना झगड़ना ,
                       रूठना,मानना याद होगा तुझे|
लाख करले तू बहाने खुश रहने के.........
                         पर अकेले मे आंशू तो बहते होंगे तेरे|
मेरे दूर जाने  पर भी,
                         मेरे लौटने का इन्तजार तो होगा तुझे|
जब इतना प्यार था,
                         तो छोड़ा क्यों  मुझे|
तू मुझे छोड़ गई,
                     मुझसे मेरी जिन्दगी रुठ गई|
अब लौट कर आकर
                      मनाऊ तो मनाऊ कैसे तुझे|



                    रचनाकार--प्रदीप तिवारी
                                                          www.kavipradeeptiwari.blogspot.com
|



3 comments:

मनीष सिंह निराला said...

बहुत सुन्दर रचना ..
आपके ब्लॉग पे जा रहा हूँ..
मेरी नई रचना के लिए पधारे ..

sushma 'आहुति' said...

बहुत ही खुबसूरत रचना....

दर्शन कौर said...

bahut achchi lagi ..