*साहित्य प्रेमियों का एक संयुक्त संघ...साहित्य पुष्पों की खुशबू फैलाता हुआ*...."आप अपनी रचना मेल करे अपनी एक तस्वीर और संक्षिप्त परिचय के साथ या इस संघ से जुड़ कर खुद रचना प्रकाशित करने के लिए हमे मेल से सूचित करे" at contact@sahityapremisangh.com पर.....हम आपको सदस्यता लिंक भेज देंगे.....*शुद्ध साहित्य का सदा स्वागत है*.....

Followers

Thursday, November 17, 2011

मनुष्य शाकाहारी या माँसाहारी?


       मनुष्य- शाकाहारी या मांसाहारी ?
   प्रकृति में सब कुछ नियमबद्ध है | उसमें जो कुछ भी घटता है उसको  वैज्ञानिक धरातल पर कसा जा सकता है | जब भी कोई उसके विरुद्ध जा उससे छेड़छाड़ करता है तो उसके दुष्परिणाम उसके साथ-साथ अन्य सभी को भी भोगना पड़ते हैं |
       मानव, प्रकृति की सबसे परिष्कृत रचना है | जिसमें उसने बुद्धि का एक ऐसा भण्डार भर दिया है कि यदि वह उसका उपयोग विवेक से करे तो इस धरती को स्वर्ग भी बना सकता है व स्वयं का उत्थान कर ईश्वरत्व भी प्राप्त कर सकता है | किन्तु मनमौजी मनुष्य ने उसका उपयोग अपने स्वार्थ के लिए ज्यादा किया | वह अपनी बुद्धि का उपयोग तथ्यों को तर्कों से झुठलाने में ही करने में अपनी शान समझता आ रहा है | लेकिन सत्य के हीरे को चाहे जितना भी तर्कों की तहों से छुपा लो, वह झूँठ का पत्थर नहीं होता | उसकी चमक उसे जग-जाहिर कर ही देती है |
      ऐसे ही कुछ तथ्य हैं जो शाकाहारी व मांसाहारी प्राणियों में स्पष्ट फर्क बतलाते हैं | मैं उन्हें आपकी जानकारी के लिए यहाँ दे रहा हूँ :     
[१] मांसाहारी प्राणी पानी चाटते हैं जबकि शाकाहारी पानी पीते हैं |
[२] मांसाहारी प्राणीयों के ‘केनाइन’ दांत ज्यादा लंबे व नुकीले होते हैं,                जिनसे वे मांस चीरते-फाडते हैं जबकि शाकाहारियों के ‘केनाइन’ छोटे व   बहुत ही कम नुकीले होते हैं |
[३] मांसाहारियों की आँत की लम्बाई कम होती है क्योंकि वे दूसरों के द्वारा  पचा-पचाया व संचित किया हुआ खाना खाते हैं जबकि शाकाहारियों की आँत की लम्बाई काफी ज्यादा होती है क्योंकि उन्हें अपना खाना खुद ही पचाना होता है |
[४] मांसाहारियों का पेट छोटा होता है जबकि शाकाहारियों का पेट बड़ा होता है |
[५] मांसाहारियों के नाख़ून मजबूत, लम्बे व नुकीले होते हैं, जिनका इस्तेमाल वे शिकार करने व उसको चिर-फाड़ करने में करते हैं | जिन्हें वे उपयोग न होने पर मोड़ कर पैरों की गद्दीदार पगथलियों के नीचे छुपा लेते हैं जबकि शाकाहारियों के नाख़ून छोटे व गोलाई लिए होते हैं जिन्हें वह मोड़  नहीं सकता और न ही उनकी पगथलियाँ गद्दीदार होती है |   
    गाय, बकरी, घोड़ा, हिरण, नन्हां खरगोश, लम्बा जिराफ, शक्तिशाली व विशाल हाथी आदि सभी शाकाहारी जानवर भी जानते हैं कि भोजन अपने शरीर के लिए अपनी प्रकृति अनुसार करना चाहिये ना कि मनानुसार सिर्फ़ स्वाद के लिए | क्योंकि अपनी प्रकृति के विरुद्ध जा सिर्फ़ स्वाद के लिए कुछ भी खाना अपने हाथ से अपने ही पैर पर कुल्हाड़ी मारने जैसा है, जिसके दुष्परिणाम से सभी वाकिफ़ हैं |
    अब आप स्वयं ही मनुष्य के बारे में अपने विवेक से निर्णय करें कि वह शाकाहारी है या माँसाहारी | 
  डॉ. द्वारका बाहेती 'द्वारकेश'      

No comments: